You are currently viewing धन्ना जाट जी की कथा
छोटी कहानी इन हिंदी धन्ना जाट

धन्ना जाट जी की कथा

छोटी कहानी इन हिंदी धन्ना जाट

एक बार की बात है, एक गाँव था जहाँ भागवत कथा का आयोजन किया गया था। एक पंडित कथा सुनाने आया था जो पूरे एक सप्ताह तक चली। अंतिम अनुष्ठान के बाद, जब पंडित दान लेकर घोड़े पर सवार होकर जाने को तैयार हुआ, तो धन्ना जाट नामक एक सीधे-सादे और गरीब किसान ने उसे रोक लिया।

धन्ना ने कहा, “हे पंडित जी! आपने कहा था कि जो भगवान की सेवा करता है, उसका बेड़ा पार हो जाता है। लेकिन मेरे पास भगवान की मूर्ति नहीं है और न ही मैं ठीक से पूजा करना जानता हूँ। कृपया मुझे भगवान की एक मूर्ति दे दीजिए।”

पंडित ने उत्तर दिया, “आप स्वयं ही एक मूर्ति ले आइए।”

धन्ना ने कहा, “लेकिन मैंने तो भगवान को कभी देखा ही नहीं, मैं उन्हें कैसे लाऊँगा?”

उन्होंने पिण्ड छुडाने को अपना भंग घोटने का सिलबट्टा उसे दिया और बोले- “ये ठाकुरजी हैं ! इनकी सेवा पूजा करना।’

भोले-भाले धन्ना नेसिलबट्टा को भगवान की मूर्ति के रूप में अपने घर में स्थापित कर दिया। अगले दिन, स्वयं स्नान करने के पश्चात, उसने भगवान को स्नान कराया तथा अपने हिस्से का बाजरे की रोटी तथा मिर्च की चटनी उसे खिलाई, तथा भगवान से अनुरोध किया कि वे स्वयं भोजन करने से पहले उसे खा लें। लेकिन भगवान ने प्रसाद नहीं खाया।

छह दिनों तक धन्ना ने प्रसाद के रूप में ताजा बाजरे की रोटी तथा चटनी रखी, जिसे छुआ तक नहीं गया। सातवें दिन, भूख से व्याकुल होकर, धन्ना ने धमकी दी कि यदि उसने उसकी विनम्र भेंट स्वीकार नहीं की, तो वह उसका सिर झाड़कर कुचल देगा।

अचानक, झाड़ने वाले से एक तेज प्रकाश निकला तथा एक दिव्य वाणी ने कहा, “देखो धन्ना! मैं तुम्हारी रोटी तथा चटनी खा रहा हूँ।” तथा भगवान ने वास्तव में आधा भोजन खाया।

जब धन्ना ने अनुरोध किया कि शेष आधा उसके लिए छोड़ दिया जाए, क्योंकि वह भी भूखा था, तो भगवान उसकी शुद्ध भक्ति से प्रसन्न हुए तथा उसे प्रचुरता – उपजाऊ भूमि, मवेशी, एक महल तथा समृद्धि का आशीर्वाद दिया। वह भगवान की कृपा से एक धनी जमींदार बन गया।

वर्षों बाद, जब पंडित गांव लौटा, तो धन्ना ने उससे मुलाकात की और बताया कि कैसे छह दिनों तक भगवान भूखे रहे, लेकिन सातवें दिन उन्होंने उसकी रोटी-चटनी का प्रसाद खाया, जिसके बाद भगवान उसके निरंतर साथी बन गए और खेतों में एक मित्र की तरह उसकी मदद करने लगे। पंडित यह जानकर आश्चर्यचकित था कि फेंका हुआ सिलबट्टा वास्तव में भगवान का निवास बन गया था, जो यह सरल गुण सिखाता था कि सच्ची भक्ति अनुष्ठानिक पूजा से अधिक मूल्यवान है।

धन्ना जाट की कहानी से हमें निम्नलिखित शिक्षाएं मिलती हैं:

  1. सच्ची भक्ति का महत्व: भगवान के प्रति सच्ची और निष्कपट भक्ति अधिक महत्वपूर्ण है, भले ही व्यक्ति को पूजा-पाठ का ज्ञान न हो। धन्ना की सरलता और सच्ची भक्ति ने भगवान को प्रसन्न कर दिया।
  2. ईश्वर की कृपा: यदि हम सच्चे मन से भगवान की आराधना करें, तो भगवान हमारी कठिनाइयों को दूर कर सकते हैं और हमें समृद्धि और सुख का आशीर्वाद दे सकते हैं।
  3. विश्वास की शक्ति: धन्ना का विश्वास अटूट था, और उसकी सच्ची श्रद्धा और विश्वास ने भगवान को उसकी भक्ति स्वीकार करने के लिए प्रेरित किया।
  4. कर्मकांड से अधिक भक्ति: केवल बाहरी अनुष्ठानों और कर्मकांडों से भगवान प्रसन्न नहीं होते। ईश्वर की भक्ति हृदय की पवित्रता और सच्चाई में होती है।
  5. निस्वार्थ सेवा: धन्ना की सेवा निस्वार्थ थी, और उसने अपनी भक्ति में कोई स्वार्थ नहीं रखा। यही कारण था कि भगवान ने उसकी भक्ति को स्वीकार किया और उसे आशीर्वाद दिया।
  6. सरलता और विनम्रता: भगवान को प्रसन्न करने के लिए साधारण और विनम्र होना भी आवश्यक है। धन्ना की सरलता और विनम्रता ने उसे भगवान का प्रिय बना दिया।

इन शिक्षाओं से हम सीख सकते हैं कि सच्चे दिल से भगवान की आराधना करना, विश्वास बनाए रखना और निस्वार्थ सेवा करना ही सबसे बड़ा धर्म है।

छोटी कहानी इन हिंदी धन्ना जाट

Short Story in Hindi Dhanna Jat

Once upon a time, there was a village where a Bhagwat Katha was organized. A Pandit had come to narrate the story which lasted for a whole week. After the last ritual, when the Pandit took the donation and was ready to leave on horseback, a simple and poor farmer named Dhanna Jat stopped him.

Danna said, “O Pandit ji! You had said that the one who serves God, his boat sails across. But I do not have an idol of God nor do I know how to worship properly. Please give me an idol of God.”

The Pandit replied, “You bring an idol yourself.”

Danna said, “But I have never seen God, how will I bring him?”

To get rid of the body, he gave him his grinding stone for grinding bhang and said- “This is Thakurji! Serve and worship him.”

The innocent Dhanna installed the Silbatta as the idol of the Lord in his house. The next day, after bathing himself, he bathed the Lord and offered him his share of bajra roti and chilli chutney, requesting the Lord to eat it before having his own meal. But the Lord did not eat the offering.

For six days Dhanna kept fresh bajra roti and chutney as prasad, which remained untouched. On the seventh day, overcome with hunger, Dhanna threatened to crush the Lord’s head with a broom if he did not accept his humble offering.

Suddenly, a bright light emanated from the broom and a divine voice said, “Look Dhanna! I am eating your roti and chutney.” And the Lord actually ate half of the food.

When Dhanna requested that the remaining half be left for him, as he was also hungry, the Lord was pleased with his pure devotion and blessed him with abundance – fertile land, cattle, a palace and prosperity. He became a wealthy landowner by the grace of the Lord.

Years later, when the Pandit returned to the village, Dhanna met him and told how the Lord remained hungry for six days, but on the seventh day he ate his roti-chutney prasad, after which the Lord became his constant companion and helped him like a friend in the fields. The Pandit was surprised to find that the thrown-out grinding stone had actually become the abode of the Lord, teaching the simple virtue that true devotion is more valuable than ritualistic worship.

The story of Dhanna Jat teaches us the following lessons:

  1. Importance of true devotion: True and sincere devotion to God is more important, even if the person does not have knowledge of worship. Dhanna’s simplicity and true devotion pleased God.
  2. Grace of God: If we worship God with a true heart, God can remove our difficulties and bless us with prosperity and happiness.
  3. Power of faith: Dhanna’s faith was unwavering, and his true devotion and faith inspired God to accept his devotion.
  4. Devotion more than rituals: God is not pleased with only external rituals and ceremonies. Devotion to God lies in the purity and truth of the heart.
  5. Selfless service: Dhanna’s service was selfless, and he did not put any selfishness in his devotion. This was the reason why God accepted his devotion and blessed him.
  6. Simplicity and humility: To please God, it is also necessary to be simple and humble. Dhanna’s simplicity and humility made him God’s favorite.

From these teachings we can learn that the greatest religion is to worship God with a true heart, maintain faith and do selfless service.

Leave a Reply